अमिताभ बच्चन ने पोस्ट शेयर कर बताया क्यों कभी ऋषि कपूर से मिलने नहीं गए अस्पताल

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर ऋषि कपूर इस दुनिया से अलविदा कहकर चले गए हैं। उन्होंने 30 अप्रैल को मुंबई के अस्पताल में अंतिम सांस ली। सांस लेने में तकलीफ होने की वजह से उन्हें अस्पताल में एडमिट कराया गया था और वह लंबे समय से कैंसर से भी लड़ रहे थे। ऋषि कपूर के निधन की जानकारी अमिताभ बच्चन ने ट्वीट करके दी थी। अमिताभ बच्चन ने ऋषि कपूर को याद करते हुए एक इमोशनल पोस्ट शेयर किया है।

अमिताभ बच्चन ने ऋषि कपूर की फिल्म सरगम से उनका डफली वाले गाने का कैरिकेचर शेयर करते हुए एक इमोशनल पोस्ट शेयर किया। उसमें उन्होंने ऋषि कपूर से अपनी पहली मुलाकात और अस्पताल उनसे ना मिलने जाने के कारण के बारे में बताया। उन्होंने लिखा-च‍िंटू से मेरी पहली मुलाकात उनके घर पर हुई जब उनके पिता राज कपूर जी ने मुझे एक शाम इंवाइट क‍िया था। मेरी पहली मुलाकात में मैंने पाया कि च‍िंटू बेहद शरारती हैं क्योंकि उनकी आंखों में एक खास तरह का शरारत दिखाई दिया था। हालांकि इसके बाद फिल्म बॉबी की वजह से मेरी मुलाकात का सिलसिला ऋषि के साथ बढ़ता ही चला गया। आरके स्‍टूड‍ियो में देखा कि वो हर समय कुछ सीखने को आतुर द‍िखते थे। उनकी चाल भी अलग थी। वह आत्‍मव‍िश्‍वास और दृढ़ता से भरे हुए दिखाई दिये। उनकी चाल और स्टाइल अपने दादाजी पृथ्‍वीराज कपूर की तरह था। वह क‍िसी गाने पर इतनी खूबसूरती लिप्सिंग करते थे जो मैंने किसी में नहीं देखी।

View this post on Instagram

… in Memoriam https://tmblr.co/ZwrX5vYFTdCL4y00 had seen him at his home Deonar Cottage, Chembur , a young energetic, bubbly , mischief in his eyes Chintu , on those rare moments when I was privileged to have been invited to an evening at Raj ji’s house .. I would see him more often after , at RK Studios, when he trained as an actor for his film to be made, BOBBY .. a diligent enthusiastic youngster, ready to pounce onto every learning that came his way, in that famous large and legendary make up room, of Raj ji at the end of the first floor corridor of make up rooms .. He had a walk that was confident and determined .. a stride and style that was similar to that of his grandfather, the legendary Prithvi Raj ji .. a walk I had noticed in one of his earlier films .. that walk .. I never found it in any other .. We worked in several films together .. When he spoke his lines, you believed every word of it .. there was never an alternative .. its genuineness was beyond question .. And there has never been any other, that could lip sync a song as perfectly as he did .. never .. His playful attitude on set was infectious .. even in the most grave sequences he would discover that comedic spark and we would all just crack up .. !! Not just on set .. if you were with him at any formal event , he would find that little distractive light hearted gem to expand on and lighten the situation .. When there was a time lapse as the shot got readied , he would bring out his playing cards , or at times pull out his rather complicated Bagatele board and invite others to play .. a competition .. not just for fun .. a serious competition .. During his time of diagnosis and his treatment he never ever lamented his condition .. it was always .. ‘see you soon , just a routine visit to the Hospital .. I’ll be back shortly ‘ Joie de vivre .. the exuberant enjoyment of life , was a gene he inherited from his father .. the Legend, the Ultimate Showman the Iconic Raj Kapoor .. I never visited him in Hospital .. I never wanted to see distress on his smiling cherubic face .. But I am certain .. when he went , he must have gone with a gentle smile …

A post shared by Amitabh Bachchan (@amitabhbachchan) on

अमिताभ बच्चन ने बताया हमने कई फ‍िल्‍मों में साथ काम क‍िया। वह सेट पर हमेशा हंसी मजाक करते रहते थे। वह पास में रहे तो कभी कोई भारी पल आया ही नहीं। शूट‍िंग के बीच में टाइम मिले तो वह कार्ड्स या कोई बोर्ड गेम लेकर बैठ जाते थे। वह जिंदगी जीना जानते थे जो गुण उन्‍होंने अपने पिता शो मैन राज कपूर जी से सीखा।

अमिताभ बच्चन ने आगे लिखा-ऋषि कपूर भले ही कितने बीमार क्यों न हो लेकिन वह अस्‍पताल जाते समय एकदम नॉर्मल दिखाई देते थे। ऐसे जैसे कुछ हुआ ही न हो और वो हमेशा कहते थे क‍ि मैं ठीक हो जाउंगा। मैं उनसे मिलने अस्पताल कभी नहीं गया। मैं उनके मुस्कुराते चेहरे पर कभी उदासी नहीं देख सकता था। मैं जानता हूं जब वो गया होगा तो उसके चेहरे पर मुस्कुराहट होगी।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *