कोरोना वायरस का असर जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क पर भी ; कॉर्बेट पार्क कर दिया गया बंद

कोरोना वायरस का असर जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क पर भी पड़ा है। खतरे को देखते हुए कॉर्बेट पार्क को बंद कर दिया गया है। 18 मार्च से 31 मार्च तक के लिए जिम कॉर्बेट पार्क के साथ प्रदेश के सभी नेशनल पार्क और वन्यजीव विहार बन्द कर दिए गए हैं। मंगलवार को प्रदेश के मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक राजीव भरतरी ने आदेश कर दिए। कॉर्बेट पार्क में काफी संख्या में भारतीय व विदेशी पर्यटक कार्बेट घूमने आते हैं। ऐसे में सबसे ज्यादा विदेशी पर्यटकों की आवाजाही से कोरोना का खतरा बना हुआ था। प्रदेश में इसके खतरे को देखते हुए आला वनाधिकारियों ने इसे बंद रखने का निर्णय लिया। आदेश मिलते ही कार्बेट प्रशासन ने सभी पर्यटन जोन पर्यटकों के लिए बंद रखने के निर्देश जारी कर दिए।

कॉर्बेट के निदेशक राहुल ने बताया कि 18 मार्च से 31 मार्च तक कॉर्बेट में रात्रि विश्राम व डे विजिट बंद रहेगा। जिन पर्यटकों की बुंकिंग हो चुकी है, उन्हें पैसा वापस किया जाएगा। बुंकिंग की वेबसाइट पर इस संबंध में जानकारी दे दी गई है। कोरोना वायरस पर्यटन कारोबार को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है। कॉर्बेट पार्क आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों की आवाजाही कम होने लगी है। कॉर्बेट प्रशासन ने 180 विदेशी पर्यटकों की पूर्व में कराई बुकिंग निरस्त कर दी है। ऐसे में पहली बार विश्व प्रसिद्ध कॉर्बेट पार्क को कोरोना की वजह से बंद किया जा रहा है। कॉर्बेट पार्क में भारतीय व विदेशी पर्यटक भ्रमण व ठहरने के लिए आते हैं।

केंद्र सरकार ने विदेशियों के भारत आने पर रोक लगा दी है। ऐसे मेें कॉर्बेट पार्क में बुकिंग करा चुके विदेशी पर्यटक वीजा के अभाव में अब यहां नहीं आ सकेंगे। अभी तक करीब दस रिसॉर्ट मेें 180 विदेशी पर्यटकों की बुकिंग निरस्त हो चुकी है। मार्च-अप्रैल में दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल, बड़ौदा, अहमदाबाद से स्कूली बच्चों केे ग्रुप हर साल कॉर्बेट पार्क आते हैं। ग्रुप में ट्रेवल नहीं करने संबंधी गाइड लाइन को देखते हुए स्कूल के ग्रुपों की बुकिंग भी निरस्त हो चुकी है। इसे देखते हुए कॉर्बेट पार्क में रात्रि विश्राम व डे विजिट को पर्यटकों के लिए बंद करने पर किया जा रहा है।

रिसॉर्ट एंड होटल एसोसिएशन रामनगर के अध्यक्ष हरिमान बताते हैं कि होटल व रिसॉर्ट में काफी बुकिंग निरस्त हो चुकी हैं। मेरे रिसॉर्ट में दो दिन में बच्चों के दो ग्रुपों की बुकिंग कैंसिल हो चुकी है। इससे चार लाख रुपये का नुकसान हुआ है। पिछले तीन सालों से कॉर्बेट पार्क का राजस्व लगातार कम होते जा रहा है। वर्ष 2016-17 में 2.91 लाख भारतीय व विदेशी पर्यटक आए। जिनसे सरकार को 9.68 करोड़ का राजस्व मिला। वर्ष 2017-18 में 2.84 लाख पर्यटकों से 8.75 करोड़ रुपये मिले। वर्ष 2018-19 में 2.83 लाख पर्यटकों से 8.65 करोड़ रुपये की आय हुई। 2019-20 में जनवरी तक 2.30 लाख पर्यटकों से करीब सात करोड़ रुपये ही राजस्व मिला है। इस बार एक करोड़ रुपये के अनुकसान नुकसान का अंदेशा है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *