उत्तराखंड में बर्ड फ्लू संक्रमित राज्यों से मुर्गियों और अंडों के आयात पर रोक

भी तक देश के चार राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। इनमें हिमाचल, मध्य प्रदेश, राजस्थान और केरल शामिल हैं। लेकिन अब कर्नाटक, गुजरात और हरियाणा में भी पक्षियों की मौत से लोग सहमे हैं।
अब उत्तराखंड में पशुपालन विभाग ने बर्ड फ्लू से बचाव के लिए संक्रमित राज्यों से मुर्गियों चूजों और अंडों के आपूर्ति पर रोक लगा दी है। यह भी निर्देश जारी किए गए हैं कि किसी पोल्ट्री फार्म में मुर्गियों में बर्ड फ्लू के लक्षण मिलने पर अंडों व मुर्गियों की खरीद बंद कर दी जाएगी। प्रदेश में बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी किया गया है।
बता दें कि प्रदेश में 408 बड़े लेयर और बॉयलर पोल्ट्री फार्म हैं। इसके अलावा 14 हजार से ज्यादा छोटे पोल्ट्री फार्म हैं। प्रदेश में मुर्गीपालन भी स्वरोजगार का एक बड़ा जरिया है। लेकिन अब सुरक्षा के लिए पोल्ट्री फार्म में बर्ड फ्लू के लक्षण मिलने पर अंडों व मुर्गियों का क्रय-विक्रय बंद रहेगा।
पशुपालन विभाग के निदेशक डॉ. केके जोशी का कहना है कि प्रदेश में बर्ड फ्लू को लेकर नियमित रूप से निगरानी की जा रही रही है। अभी तक किसी पोल्ट्री फार्म में बर्ड फ्लू रोग के लक्षण नहीं मिले हैं। एहतियात के तौर पर संक्रमित राज्यों से अंडों, मुर्गियों व चूजों के आयात को प्रतिबंध किया गया है। बर्ड फ्लू की जांच के लिए जिला व ब्लाक स्तर पर सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं।

प्रदेश के 80 पोल्ट्री फार्म पर प्रशासन की नजर
कई राज्यों में बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद उत्तराखंड भी अलर्ट मोड में आ गया है। देहरादून में जिला प्रशासन ने बर्ड फ्लू के खतरे से निपटने के लिए सभी छह ब्लॉक में चार-चार अधिकारियों की क्विक रिस्पॉन्स टीम (क्यूआरटी) का गठन किया है। यह टीम दून के करीब 80 पोल्ट्री फार्म पर सघन नजर रखेगी। किसी भी तरह की संदिग्ध स्थिति पाए जाने पर उसकी सूचना मुख्य पशु चिकित्साधिकारी कार्यालय में बनाए गए कंट्रोल रूम को दी जाएगी।

पशुपालन विभाग ने टोल फ्री नंबर किया जारी
बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए पशुपालन विभाग ने टोल फ्री नंबर 18001208862 जारी किया है। प्रदेश के किसी भी क्षेत्र में पक्षियों और मुर्गियों की मौत होने पर तत्काल टोल फ्री नंबर पर सूचना दें। विभाग ने निदेशालय में कंट्रोल रूप में स्थापित किया गया। जहां पर 0135-2532809 नंबर पर सूचना दे सकते हैं।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *