मुहब्बत की निशानी ताजमहल की सुंदरता को देखकर ट्रंप हुए आश्चर्यचकित

मुहब्बत की निशानी ताजमहल पर सांझ के ढलते हुए सूरज की रोशनी में जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और मेलानिया पहुंचे तो पहली ही नजर में फिदा हो गए। उन्होंने ताज के तीन रंग देखे। जब पहुंचे तो सफेद था। सूरज ढलना शुरू हुआ तो इसकी किरणों से सुनहरा हो गया। जब सूरज कुछ और ढल गया तो हलका लाल हो गया। ट्रंप और मेलानिया ने गाइड नितिन सिंह से दास्तान-ए-ताज पर 50 सवाल किए।

ताज के मुख्य गुंबद में शहंशाह शाहजहां और मुमताज महल की कब्रें देखकर जब इनके तामीर होने की दास्तां सुनी तो फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप भावुक हो उठीं। सोमवार शाम को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया ने ताजमहल में रोमांटिक पलों को जिया और हाथों में हाथ डालकर एकदम अकेले चले। सुनहरी आभा लिए ताजमहल में चिड़ियों की चहचहाहट और बेहद शांत माहौल में ट्रंप और मेलानिया ने 85 मिनट बिताए।

बेटी इवांका और दामाद जेरेड के साथ ताज पहुंचे ट्रंप और मेलानिया ने गाइड नितिन सिंह से हर एक पहलू पर सवाल किया। अमेरिकी राष्ट्रपति ने ताज के सेंट्रल टैंक पर डायना सीट के पास खड़े होकर तस्वीरें खिंचवाईं। बेहद खुशनुमा मूड में वह ताजमहल पहुंचे और पल-पल रंग बदलते ताज को देखकर सवालों की शुरुआत की।

डोनाल्ड ट्रंप: ताजमहल को किसने बनाया ?
नितिन सिंह: मुगल शहंशाह शाहजहां ने बेगम अर्जुमन्द बानो बेगम उर्फ मुमताज महल की याद में ताजमहल बनवाया। 1631 से 1648 के बीच ताजमहल बना।

डोनाल्ड ट्रंप: ताजमहल बनाने वाले कारीगर कहां से आए
नितिन सिंह: ताज को 20 हजार से ज्यादा कारीगरों ने 17 साल में बनाया। ये कारीगर देशभर से आए, जो संगमरमर की इमारतें बनाने में माहिर थे। डिजाइन उस्ताद अहमद लाहौरी ने बनाया और शिराजी के अमानत खान को गुंबद पर केलीग्राफी का काम सौंपा गया। तुर्की के गुंबद बनाने के शिल्पी इस्माइल खान अफरीदी ने गुंबद बनाया।


डोनाल्ड ट्रंप: क्या ये पेंटिंग है?
नितिन सिंह: नहीं सर, ये पेंटिंग नहीं है। ये पच्चीकारी है। दुनियाभर से 49 जगह से रंगीन पत्थर लाकर संगमरमर के साथ ये डिजाइन तैयार किए गए। न ये रंग हैं और न ये पेंटिंग है। यह संगमरमर की शिल्पकला है।

डोनाल्ड ट्रंप: ताज के लिए संगमरमर कहां से आया?
नितिन सिंह: राजस्थान के मकराना से संगमरमर आया। काला पत्थर दक्षिण भारत के कडप्पा से लाया गया। रूस, ईरान, इराक, मिस्र, अरब, चीन, श्रीलंका, समुद्र आदि जगहों से कीमती पत्थर लाए गए।


मेलानिया: शाहजहां को कहां कैद किया गया था?
नितिन: शाहजहां को उसी के बेटे औरंगजेब ने कैद कर आगरा किला के मुसम्मन बुर्ज में आठ साल तक रखा।


बेहद भावुक होते हुए मेलानिया ने टिप्पणी की कि ये अजीब है ना, जिसने इतना सुंदर मकबरा बनाया, उसे कैद कर लिया गया।

डोनाल्ड ट्रंप: भूमिगत कब्रें कब बनीं और एकसाथ ऊपर नीचे कब्रें क्यों बनाईं?
नितिन सिंह: भूमिगत कब्र 1632 में शाहजहां ने ही बनवाई थी। 1648 तक ताजमहल बनने के दौरान ही ऊपर की नकली कब्र बनाई गई। इस्लाम में कब्रों को सजाना मना है, इसलिए नकली कब्र बनाकर महंगे रत्नों और सोने-चांदी से सजाया गया।

डोनाल्ड ट्रंप: आवाज यहां कैसे गूंजती है?
नितिन सिंह: ताज में डबल डोम यानी दोहरा गुंबद है। पिन ड्रॉप साइलेंस में बोलने पर आवाज गूंजती है।


डोनाल्ड ट्रंप: इसकी सफाई कब और कैसे होती है?
नितिन सिंह: पांच साल से ताजमहल की सफाई चल रही है। प्राकृतिक तरीके से बिना किसी रसायन के मडपैक ट्रीटमेंट से ताज की सफाई की गई है।

डोनाल्ड ट्रंप: कितनी बार ताज की सफाई हो चुकी है?
नितिन सिंह: 370 सालों में केवल एक बार मडपैक ट्रीटमेंट से सफाई हुई है। ताज पुराने रंगरूप में आ चुका है।

डोनाल्ड ट्रंप: दोनों तरफ एक जैसी इमारतें कैसे बनाई गईं?
नितिन सिंह: ताज वास्तुकला का अद्भुत नमूना है। मस्जिद की तरह दूसरी ओर मेहमानखाना है, जिसे रेप्लिका के तौर पर बनाया गया, लेकिन ब्रिटिश लोगों ने इसका इस्तेमाल गेस्ट हाउस के तौर पर किया।


1962 में अमेरिका की तत्कालीन फर्स्ट लेडी जैकलीन कैनेडी जब ताजमहल देखने अकेले आई थीं तो वह डायना सीट पर बैठी नहीं, बल्कि सेंट्रल टैंक पर सीट के पास खड़े होकर फोटो खिंचवाए। गाइड नितिन सिंह ने अमेरिकी राष्ट्रपति को डायना सीट के बारे में बताया और कहा कि लेडी डायना ने जिस अंदाज में ताज में फोटो खिंचवाया, दरअसल वह अमेरिकी फर्स्ट लेडी कैनेडी से प्रेरित थीं।

पांच बार मुड़कर निहारा ताज
अमेरिकी राष्ट्रपति की पत्नी मेलानिया ताजमहल के दीदार के दौरान इसकी दास्तान सुनकर भावुक हो उठी थीं। उन्होंने ताज के दीदार के बाद लौटते हुए पांच बार मुड़कर ताज को निहारा। मेलानिया की रुचि ताज की कहानी में नजर आई तो ट्रंप इमारत की खासियत जानने में लगे रहे। सूर्यास्त के दौरान ताज के चमकते नगीनों और सुनहरे ताज को दिखाया। इनसे जुड़ी कहानियों को गाइड नितिन ने ट्रंप से साझा किया।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *