अब सिर्फ तीन घंटे में पूरा होगा दिल्ली से दून तक का सफर, जाने क्या है नया रुट।..

दिल्ली से देहरादून के बीच प्रस्तावित एक्सप्रेस वे के तीसरे चरण में डाट काली मंदिर में 400 मीटर लंबी एक और डबल लेन टनल बनाई जाएगी। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने इस सुरंग के लिए डीपीआर बनाने का काम शुरू कर दिया है।  विदित है कि केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय ने दिल्ली से देहरादून के बीच एक्सप्रेस वे के निर्माण को मंजूरी दी है।

इसके तहत दिल्ली से डासना, सावली,  सहारनपुर, गणेशपुर होते हुए देहरादून तक फोर लेन एक्सप्रेस वे बनाया जाना है। इस परियोजना का काफी हिस्सा बन चुका है, जबकि अब गणेशपुर से देहरादून के बीच का 19 किमी भाग बनाया जाना है। परियोजना के लिए टेंडर की प्रक्रिया के साथ ही अब डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने का भी काम शुरू किया जा रहा है।

एनएचएआई के अधिकारियों ने बताया कि परियोजना के तहत एलिवेटेड रोड के साथ ही डाट काली में 400 मीटर के करीब एक और टनल बनाई जाएगी। यह मौजूदा डबल लेन टनल के पास ही बनेगी। डाटकाली में हाल ही में 340 मीटर लंबी डबल टनल बनी है, लेकिन नई टनल इससे लंबी होगी। इसके अलावा डाट काली में अंग्रेजों के समय की पुरानी सिंगल लेन टनल है। नई टनल बनने से यहां तीन सुरंगें हो जाएंगी।

ढाई से तीन घंटे में होगा दून से दिल्ली का सफर 
एनएचएआई के अधिकारियों ने बताया कि देहरादून से हरिद्वार होते हुए दिल्ली जाने में अभी लोगों को 250 किमी लंबे नेशनल हाईवे का सफर करना पड़ता है। इसमें पांच से छह घंटे लगते हैं और लगातार जाम की भी समस्या बनी रहती है, लेकिन नया एक्सप्रेस वे बीच के कई शहरों को बाईपास करते हुए बन रहा है। इसमें जाम की समस्या नहीं होगी। इस एक्सप्रेस वे की लंबाई 200 किमी के करीब होगी और ढाई से तीन घंटे में लोग दून से दिल्ली पहुंच जाएंगे।

नया रूट
दिल्ली -डासना- सावली- सहारनपुर- गणेशपुर – देहरादून (200 किमी)
वर्तमान रूट
दिल्ली- गाजियाबाद- मेरठ- मुजफ्फरनगर- रुड़की- देहरादून (250 किमी)

जद में आएगा मोहंड गेस्ट हाउस 
इस परियोजना में मोहंड में बने सौ साल पुराने गेस्ट हाउस के साथ ही 2400 से अधिक पेड़ आ रहे हैं। एनएचएआई परियोजना की डीपीआर और टेंडर की प्रक्रिया के बाद अब कुछ समय बाद परियोजना पर काम शुरू करने जा रहा है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *