आज लगेगा वलयाकार सूर्यग्रहण, विश्व के कई देशों में दिखेगी अद्भुत खगोलीय घटना

रविवार की सुबह  एक अद्भुत खगोलीय घटना होने जा रही है। दुनिया के कई देश अलग-अलग समय पर इस नज़ारे को अपनी आंखों से देेेेखेंगे।   रविवार यानी आज सुबह  खण्डग्रास यानी वलयाकार सूर्यग्रहण लगने जा रहा है। उत्तराखंड में ये अद्भुत खगोलीय घटना नैनीताल में सुबह 10.25 में शुरू हो जाएगी, जबकि दुनिया के कई अन्य देशों में ग्रहण लगने और छंटने के समय में अंतर होगा।

ये वलयाकार ग्रहण होगा। यहां अपरान्ह 12.09 बजे सूर्य का अधिकांश हिस्सा 96 प्रतिशत ग्रहण की चपेट में आ जायेगा। दोपहर 1.54 बजे ग्रहण छंट जाएगा। देहरादून , जोशीमठ, चमोली व नयी टिहरी में ग्रहण 90 फीसद लगेगा। इसके अलावा राजस्थान के अनेक क्षेत्रों में वलयाकार ग्रहण लगेगा। बाकी हिस्सों में आंशिक ग्रहण ही नजर आने वाला है। भारत के अलावा, एशिया , अफ्रीका व यूरोप के कुछ क्षेत्र में ग्रहण नजर आएगा।

यहां एरीज के खगोल वैज्ञानिक डॉ शशिभूषण पांडे ने ग्रहण के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि वलयाकार सूर्यग्रहण की अपनी अलग सुंदरता है। इस ग्रहण में चांद पूरी तरह से सूर्य को अपने साये में नहीं ले पाता। सूर्य का आखिरी हिस्सा ग्रहण से मुक्त रह जाता है, जिस कारण सूर्य आग के छल्ले की तरह नजर आता है। वलयाकार ग्रहण धरती के 21 किमी की छोटी पट्टी में ही देखा जा सकेगा।

बाकी हिस्सों से आंशिक ग्रहण ही नजर आएगा। ग्रहण के वैज्ञानिक महत्व को लेकिन एरीज 4 दूरबीन लगा रहा है। दो दूरबीन सीसीडी कैमरे से लैस होंगे, जिनसे ग्रहण के हर पल की तस्वीरों को कैमरे में कैद किया जा सकेगा। ज़ूम, फेसबुक व यू ट्यूब के जरिये सूर्यग्रहण को ऑनलाइन दिखाया जा सकेगा। कोरोना संक्रमण के कारण लोग एरीज नहीं आ सकेंगे।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *