उत्तराखंड ऊर्जा निगम, यूजेवीएनएल के एक भी अभियंता निदेशक पद के योग्य नहीं

उत्तराखंड ऊर्जा निगम, यूजेवीएनएल के मौजूदा मुख्य अभियंताओं में से कोई भी यूपीसीएल निदेशक ऑपरेशन के पद के योग्य नहीं पाया गया। पिटकुल के निदेशक वित्त के पद पर दिल्ली पावर ट्रांसमिशन लिमिटेड के सुरेंद्र बब्बर का चयन किया गया।

बुधवार को निदेशक ऑपरेशन ऊर्जा निगम और निदेशक वित्त पिटकुल के पदों के लिए इंटरव्यू हुए थे। शुक्रवार को नतीजे जारी किए गए।

सबसे चौंकाने वाला नतीजा निदेशक यूपीसीएल के पद पर आया। इस पद के लिए कुल 15 लोगों ने आवेदन किया था। 9 लोगों के आवेदन शॉर्ट लिस्ट हुए।

छह मुख्य अभियंता इंटरव्यू में शामिल हुए। इनमें प्रभारी निदेशक मानव संसाधन और मुख्य अभियंता यूपीसीएल एके सिंह, मुख्य अभियंता यूपीसीएल एमएल प्रसाद, रजनीश अग्रवाल, एसके टम्टा, यूजेवीएनएल से पंकज कुलश्रेष्ठ समेत मुख्य अभियंता यूपी विराग बसंल ने इंटरव्यू में भाग लिया।

ये सभी छह मुख्य अभियंता ऐसे हैं, जिन्हें पावर सेक्टर में 30 साल से अधिक का अनुभव है। इसमें पांच मुख्य अभियंता राज्य में ही अहम पदों पर बैठे हैं। इससे सवाल उठ रहे हैं कि यदि ये लोग निदेशक पद के लिए अयोग्य हैं, तो निगमों में कैसे इन्हें इतनी अहम जिम्मेदारियां दी गई हैं।

अब राज्य के इन पांच मुख्य अभियंताओं के लिए भविष्य में निदेशक पद पर चयन की संभावनाओं को भी झटका लगा है। सूत्रों के अनुसार एक इंजीनियर को रिवर्ट होने से बचाने को इन मुख्य अभियंताओं को अयोग्य करार दिया गया है।

पिटकुल निदेशक वित्त के पद पर दिल्ली ट्रांसमिशन कंपनी के अनुभवी जीएम का चयन किया गया है। यूपीसीएल निदेशक ऑपरेशन के पद पर चयन समिति ने किसी को भी योग्य नहीं पाया। निदेशक जैसे अहम पद के लिए देश की नामी कंपनियों से अधिक से अधिक योग्य लोग आवेदन करे, इसके लिए नये सिरे से नियम तैयार किए जा रहे हैं। पूर्व मुख्य सचिव आईके पांडे समिति की रिपोर्ट आते ही उसके अनुसार खाली पदों पर चयन को आगे की कार्रवाई की जाएगी।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *