प्रदेश के सरकारी स्कूलों के लिए चालू शैक्षिक सत्र की अवधि बढ़ेगी

प्रदेश के सरकारी स्कूलों के लिए चालू शैक्षिक सत्र की अवधि बढ़ेगी, लेकिन यह फैसला निजी स्कूलों पर लागू नहीं होगा। निजी स्कूल जिन शिक्षा बोर्डों से संबद्ध है, उनके मुताबिक ही फैसला ले सकेंगे। कोरोना महामारी की वजह से बीते मार्च माह से ही सरकारी और निजी स्कूल लंबे समय तक बंद रहे हैं। बोर्ड की कक्षाओं 10वीं व 12वीं के लिए बीते नवंबर माह में स्कूलों को खोला जा चुका है। अब छठी से 11वीं तक कक्षाओं में आफलाइन पढ़ाई प्रारंभ हो चुकी है। हालांकि, कोरोना संक्रमण को देखते हुए बड़ी संख्या में अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने से परहेज कर रहे हैं। कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन के मुताबिक ऐसे बच्चों को आनलाइन पढ़ाया जा रहा है।

आनलाइन पढ़ाई के चलते सबसे ज्यादा असर दूरदराज ग्रामीण क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों के बच्चों पर पड़ा है। ग्र्रामीण क्षेत्रों में कमजोर पृष्ठ भूमि के बच्चों के पास स्मार्ट फोन की कमी की समस्या रही है। यही वजह है कि विभाग के एक सर्वेक्षण में यह तथ्य भी सामने आया है कि ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 40 फीसद बच्चों को आनलाइन पढ़ाई का अपेक्षित लाभ नहीं मिला है। इस वजह से सरकारी स्कूलों के लिए शैक्षिक सत्र को बढ़ाने का निर्णय किया गया है।

शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम के मुताबिक सरकारी स्कूलों के बच्चों को पढ़ाई का ज्यादा मौका मुहैया कराने को गृह परीक्षाएं आगामी मई माह में कराने का निर्णय किया गया है। गृह परीक्षाओं के बाद आगामी जुलाई माह में नया शैक्षिक सत्र प्रारंभ होगा। उन्होने कहा कि निजी स्कूलों के लिए शैक्षिक सत्र में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। ये स्कूल एक अप्रैल से ही खुल सकेंगे। उन्होंने कहा कि निजी स्कूल में वार्षिक परीक्षाओं का कार्यक्रम फरवरी या मार्च माह में घोषित किया जा चुके हैं। उनके लिए नए सत्र की व्यवस्था पहले की भांति की गई है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *