केंद्र सरकार के निर्णय विरोध में प्रदेश भर के बैंक कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन जारी

राष्ट्रीयकृत बैंकों को निजी हाथों में सौंपने के केंद्र सरकार के निर्णय के विरोध में प्रदेश भर के बैंक कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन दूसरे दिन भी जारी है। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के बैनर तले बैंक कर्मचारी सुबह दस बजे एश्ले हॉल चौक पर एकत्र हुए और केंद्र सरकार के बैंकों के निजीकरण के फैसलों के विरोध में नारेबाजी कर रहें हैं। बैंक कर्मचारी एश्लेहाल से घंटाघर और वापस एस्‍लेहाल चौक तक जुलूस निकलेंगे। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस उत्तराखंड के संयोजक समदर्शी बड़थ्वाल ने बताया कि बैंक कर्मचारी आर पार की लड़ाई के लिए तैयार हैं। केंद्र सरकार आमजन और बैंकर्स के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है।

बैंकों में हड़ताल के चलते लेनदेन का सारा भार एटीएम पर आ गया है। बैंकों ने विगत शुक्रवार को एटीएम में कैश लगाया था। जिसके बाद शनिवार, रविवार को बैंकों की छुट्टी रही और सोमवार व मंगलवार को हड़ताल चल रही है। ऐसे में एटीएम भी कैशलेस हो चुके हैं।

केंद्र सरकार के 6 राष्ट्रीयकृत बैंकों के निजीकरण के फैसले के खिलाफ यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के बैनर तले बैंक कर्मियों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी है। बैंक कर्मियों ने मंगलवार को रानीपुर मोड़ स्थित पंजाब नेशनल बैंक के बाहर प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। यूएफबीयू के जिला संयोजक राजकुमार सक्सेना ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों का बैंक कर्मी विरोध करते हैं। जब तक सरकार अपना फैसला वापस नहीं लेती तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

रुड़की में निजीकरण के विरोध में बैंक यूनियनों की ओर से दूसरे दिन भी हड़ताल रही मंगलवार को सुबह 10:30 बजे सभी बैंक कर्मचारी नारेबाजी करते हुए मकतुलपुरी स्थित केनरा बैंक पर पहुंचे और यहां पर प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांग नहीं मानी लेती है, निजीकरण को बंद नहीं किया जाता है तब तक उनका आंदोलन चरणबद्ध तरीके से जारी रहेगा। इस मौके पर सीबीआईयू के अध्यक्ष मनु माकिन, वीके गुप्ता, मनोज खुराना, अग्रवाल तरुण त्यागी आदि मौजूद रहे।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *