चारों धाम में रविवार को कुल 1267 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए; जाने पूरी खबर

चारों धाम में धीरे-धीरे श्रद्धालुओं की आमद बढ़ने लगी है। रविवार को कुल 1267 श्रद्धालुओं ने चारों धाम में दर्शन किए। इनमें सबसे अधिक 536 ने केदारनाथ, 368 ने बदरीनाथ, 275 ने गंगोत्री और 88 ने यमुनोत्री के दर्शन किए। बदरीनाथ धाम चार्टर्ड हेलीकाप्टर से भी श्रद्धालु पहुंचे। इसके अलावा गुरुद्वारा हेमकुंड साहिब व लोकपाल लक्ष्मण मंदिर में 76 श्रद्धालुओं ने मत्था टेका। बदरीनाथ धाम पहुंचने वाले श्रद्धालु बड़ी संख्या में देश के अंतिम गांव माणा के अलावा गणेश गुफा, व्यास गुफा आदि स्थानों पर भी दर्शनों को पहुंच रहे हैं। ब्रह्मकपाल तीर्थ में भी पिंडदान व तर्पण के लिए श्रद्धालु पहुंचने लगे हैं। ब्रह्मकपाल के तीर्थ पुरोहित प्रमोद हटवाल ने बताया कि इस वर्ष का पहला पिंडदान गुजरात से पहुंचे प्रेम सिंह रावल ने कराया। बताया कि रविवार को आठ परिवारों के सदस्य पिंडदान व तर्पण को पहुंचे।

सोनप्रयाग से 700 श्रद्धालु केदारनाथ धाम के लिए रवाना हुए। बाहरी राज्यों से भी बड़ी संख्या में यात्री दर्शनों को पहुंच रहे हैं। यात्रियों की संख्या बढ़ने व बिना रजिस्ट्रेशन के जाने वाले यात्रियों को पुलिस अगस्त्मयुनि, गुप्तकाशी समेत विभिन्न स्थानों पर आगे जाने से रोक रही है।केदारनाथ धाम के पड़ावों पर भी खासी चहल-पहल है। रविवार को 700 यात्री सोनप्रयाग से केदारनाथ के लिए रवाना हुए। केदारनाथ होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष नितिन जमलोकी ने बताया कि केदारनाथ दर्शनों को बड़ी संख्या में यात्री पहुंच रहे हैं। इसलिए सरकार को अधिकतम 800 की सीमा समाप्त कर देनी चाहिए। देवस्थानम बोर्ड के कार्याधिकारी एनएस जमलोकी ने बताया कि दर्शनों के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पूरी तरह पालन किया जा रहा है।

गंगोत्री धाम में भी यात्रियों की आमद बढ़ रही है। गंगोत्री मंदिर समिति के सह सचिव राजेश सेमवाल ने कहा कि यात्रा शुरू होने से तीर्थ पुरोहित, होटल व्यवसायी, पूजन सामग्री विक्रेता व वाहन चालक समेत अन्य व्यवसासियों का रोजगार चलने लगा है। यमुनोत्री मार्ग पर भी व्यवस्थाएं दुरुस्त की जा रही हैं, ताकि श्रद्धालुओं को असुविधा न हो। भूस्खलन जोन में जेसीबी के साथ सीमा सड़क संगठन और एनएच की टीम तैनात है।हेमकुंड साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के लिए श्रद्धालु दोपहर दो बजे तक ही जा सकते हैं। इसके बाद गोविंदघाट पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को अगले दिन तक का इंतजार करना होगा। गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब ट्रस्ट के मुख्य प्रबंधक सेवा सिंह ने बताया कि रविवार को 76 श्रद्धालु हेमकुंड साहिब पहुंचे।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *