पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू बाजपुर निवासी राजेंद्र सिंह के आवास पर पहुंचे

पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू शुक्रवार  करीब तीन बजे बाजपुर निवासी राजेंद्र सिंह के आवास पर पहुंचे। यहां विश्राम के बाद वह 11 बजे लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो गए। उन्होंने बाजपुर में किसान नेताओं से बातचीत की और लखीमपुर की घटना को निंदनीय बताया। कहा कि जिन किसानों के बूते हमें भोजन मिल पाता है, उसी अन्नदाता का भाजपा सरकार अपमान कर रही है। उन्हें गाड़ियों के नीचे रौंदा जा रहा है। यह  लोकतंत्र का भी अपमान है। इस मौके पर पंजाब के एक मंत्री, विधायक और कांग्रेस के पदाधिकारी भी उनके साथ थे।

लखीमपुर से गर्माई सिख सियासत

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना के बाद उत्तराखंड की तराई में सियासत गरमा गई है। तराई में किसानों को साधने के लिए लखीमपुर खीरी जाने के लिए पूर्व सीएम हरीश रावत ने बाजपुर से कूच किया था,मगर उन्हें यूएस नगर व बहेड़ी बार्डर पर पुलिस ने आगे जाने से रोक दिया था। यह चर्चा है कि बाजपुर से ही क्यों मार्च निकाला गया। काशीपुर से भी मार्च निकाला जा सकता है। इसे लेकर तरह तरह के निहितार्थ निकाले जा रहे हैं।तराई के किसान प्रगतिशील हैं। कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहा है। यहां के किसान गाजीपुर बार्डर पर जाकर धरना प्रदर्शन करते हैं।विधानसभा चुनाव नजदीक है। कांग्रेस इसका फायदे उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। मार्च के जरिये यूएस नगर में सियासी माहौल बनाने में कोई कमी नहीं दिखी। मार्च को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह दिखा। जो लोग टिकट की दावेदारी कर रहे हैं, वे लोग चौपहिया वाहनों के साथ शक्ति प्रदर्शन करने में पीछे नहीं रहे। कांग्रेस के पास कृषि कानून का एक मुद्दा मिला है, जिसे भुनाने में लगे हैं। मार्च में जसपुर, रामनगर,बाजपुर, गदरपुर, रुद्रपुर, खटीमा, किच्छा, सितारगंज के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।

 

 

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *