दून में कोरोना संक्रमण की रफतार तेज; संक्रमित मामलों में एक तरह की निरंतरता बनी

दून में कोरोना संक्रमण पर विराम लग नहीं रहा है। पिछले कुछ माह से नए मामले मिलने की दर जरूर कम हुई है, पर मामलों में एक तरह की निरंतरता बनी हुई है। इससे जनपद में कोरोना संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा 30 हजार के पार पहुंच गया है। चिंताजनक पक्ष ये है कि कोरोना चरम पर था तब भी और अब इसमें कमी आई है तब भी सबसे ज्यादा मार दून पर ही पड़ रही है। अगर बात इस साल की करें तो  प्रदेशभर में 7011 लोग संक्रमित हुए हैं। इनमें करीब चालीस फीसद दून से हैं।

बता दें कि जनपद में कोरोना का पहला मामला 15 मार्च 2020 को सामने आया था। शैक्षणिक टूर से विदेश से लौटे इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन सेवा अकादमी के एक प्रशिक्षु आइएफएस में कोरोना की पुष्टि हुई थी। अगले दो दिन में दो और प्रशिक्षु आइएफएस भी संक्रमित पाए गए। बाद में संक्रमण का दायरा धीरे-धीरे बढ़ता गया। कोरोना का सबसे अधिक कहर प्रवासियों की वापसी के बाद बरपा।

वहीं, लॉकडाउन के बाद शुरू हुए अनलॉक के अलग-अलग चरणों में भी वायरस का संक्रमण तेजी से फैलता गया। वहीं बीती अक्टूबर-नवंबर से संक्रमण की रफ्तार कुछ हद तक थमने लगी। पर अब जिस तरह देश के अन्य राज्यों में कोरोना की वापसी हुई है उससे दून में भी चिंता बनी हुई है। उस पर मास्क, सैनिटाइजेशन व शारीरिक दूरी आदि के नियम लगातार टूट रहे हैं। यह बेफिक्री आने वाले वक्त में भारी पड़ सकती है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *