मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम लिए बगैर उन पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बोला हमला

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड में मुफ्त बिजली देने की घोषणा को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम लिए बगैर उन पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि किसी का एजेंडा चुनाव हो सकता है, लेकिन प्रदेश की भाजपा सरकार का एजेंडा विकास कार्यों को गति देना है। उत्तराखंड में सस्ती व 24 घंटे बिजली मिल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के सामने चुनौती उत्तराखंड को आगे ले जाने की है। योजनाओं का पूरा करना, रोजगार और भ्रष्टाचार मुक्त शासन देना सरकार का एजेंडा है।राज्यसभा सदस्य एवं भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने उत्तराखंड दौरे को लेकर केजरीवाल पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि केजरीवाल को पहले दिल्ली की जनता से किए गए वादों पर स्पष्टीकरण देना चाहिए। उन्होंने दिल्ली में मुफ्त बिजली का वादा किया था, लेकिन हर बिल के साथ सरचार्ज, एनर्जी चार्ज, फिक्स्ड चार्ज के नाम पर हर उपभोक्ता से पैसा वसूल किया जा रहा है। मुफ्त पानी की घोषणा करने वाले केजरीवाल टैंकरों से पानी पिला रहे हैं।उन्होंने कहा कि मोहल्ला क्लीनिक की सच्चाई कोरोना काल में जगजाहिर हो चुकी है। दिल्ली में कोई नया अस्पताल नहीं खोला गया। स्कूलों को लेकर किया गया प्रचार हवाई साबित हुआ है। बलूनी ने कहा कि उत्तराखंड की जनता जागरूक है। केवल मुफ्त के फार्मूले से सत्ता के सपने नहीं देखे जाने चाहिए। देवभूमि की जनता आप के दिल्ली के कार्यकाल को नजदीक से देख रही है।

सीसीटीवी महिला सुरक्षा जैसे मुद्दों पर एक भी इंच आगे न बढ़ना, आप पार्टी के चुनावी हथकंडों को उजागर कर चुका है। काठ की हांड़ी बार-बार नहीं चढ़ती है। अनिल बलूनी ने कहा कि केजरीवाल दिल्ली के झूठ का देवभूमि में प्रायश्चित करेंगे, ऐसा करने के बजाय उन्होंने एक कदम और आगे बढ़कर वोट के लिए चुनावी दाना डाला। परिपक्व जनमानस वाले प्रदेश में यह असफल प्रयास किया गया। उत्तराखंड की जनता राष्ट्रीय मुख्यधारा के हिसाब से सोचती रही है और उन मानकों पर केजरीवाल सदैव राष्ट्र विरोधियों के साथ खड़े नजर आए।भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि आप नेता केजरीवाल के चुनावी लुभावने वादे और आडंबर से उत्तराखंड में कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। उन्होंने दिल्ली, देश और अब देवभूमि उत्तराखंड में झूठ बोला है। इसके लिए उन्हें प्रायश्चित करना चाहिए। केजरीवाल अपने दल के स्वयंभू अध्यक्ष हैं। उनकी नीतियों से असंतुष्ट होने वाले को बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है।उत्तराखंड के कोटे से आक्सीजन लेना, आवश्यकता से चार गुना आक्सीजन डंप करना, कालाबाजारी और देश के सबसे अधिक संक्रमित और मृत्यु दर में अग्रणी राज्य का तमगा भी दिल्ली ने हासिल किया। केजरीवाल का उत्तराखंड प्रेम तब देखा गया, जब राज्य के निवासियों को बार्डर पर छोड़ दिया गया। कुछ गिनती के सरकारी स्कूल को छोड़कर केजरीवाल दिल्ली माडल की बात कर रहे हैं।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *