सीएम के आवास पर पहुंचे पूर्व सीएम हरीश रावत

देश सरकार व उसके नेताओं पर अक्सर चुटकी लेने वाले सूबे के पूर्व सीएम व कांग्रेसी दिग्गज हरीश रावत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात की। यह मुलाकात सीएम त्रिवेंद्र के आवास पर हुई। लेकिन इस बार पूर्व सीएम ने चुटकी नहीं बल्कि सुझाव दिए। सुझाव आपदा न्यूनीकरण के संदर्भ में थे। और प्रभावित लोगों की मदद कैसे बेहतर ढंग से हो इसके बनिस्पत कुछ मंाग भी रखी।
मौजूदा सीएम और पूर्व सीएम की यह मुलाकात हालांकि अरसे बाद हुई हो, लेकिन इस मुलाकात पर कांगे्रसी महासचिव ने उंचाइयों और अनुभवों से उपजने वाले तमाम अहम को दरकिनार कर एक संदेश जरूर हर किसी को दिया है, कि आम जन यदि परेशानी में हो तो उसकी बात सत्ता तक पहुंचाई जानी चाहिए। उन्होंने मुनस्यारी व धारचूला में आपदा के असर को देखते हुए एसडीआरएफ की ज्यादा टीमें तैनात करने समेत अन्य मांगों को लेकर सीएम को बाकायदा ज्ञापन सौंपा।

यहां हरीश रावत ने पिथौरागढ़ जनपद के क्षेत्रों मंे आई आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में बचाव व राहत कार्यों को लेकर चर्चा की। उन्होंने मदकोट-जौलजीवी मोटर मार्ग को दुरुस्त करने के साथ ही अवरूध मार्ग को सुचारू करने के लिए वहा कुछ और मशीनें बढ़ाने की मांग की। साथ ही प्रभावितों की मदद की मदद को जिला स्तर पर जितना संभव हो सके जिलाधिकारियों को अधिकृत करने की मांग की। चर्चा में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य में आपदा प्रबंधन तंत्र को सुदृढ़ किया गया है। नेटवर्क को और दुरूस्त किया गया है ताकि आपदा की स्थिति में बचाव व राहत कार्य यथा समय किया जा सके। प्रभावित क्षेत्रों में प्रशासन की भूमिका भी अनापेक्षित नहीं रही।
जाहिर तौर पर दोनों की नेताओ की यह मुलाकात सकारात्मक राजनीति के बेहतर संकेत हैं। यहां अन्य अवसरों की तरह राजनीति के धुरविरोधी अहम की भी तिलांजलि हुई है। यहां दलगत राजनीति से उपर उठकर जनहित में प्रयास करने का संदेश भी दिया है, तो इसे आपदा की स्थितियों में सकारत्मक दिशा में उठाया गया कदम भी समझा जाना चाहिए।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *