अखाड़ों के रिजर्व गंगा घाट महाशिवरात्रि स्नान पर्व पर हरकी पैड़ी

महाशिवरात्रि स्नान पर्व पर हरकी पैड़ी के गंगा घाट सुबह आठ बजे से शाम छह बजे तक अखाड़ों के रिजर्व रहेंगे। इस दौरान आम श्रद्धालु बाकी गंगा घाटों पर स्नान करेंगे। हरकी पैड़ी पर श्रद्धालु सुबह आठ बजे से पहले और शाम छह बजे के बाद स्नान कर सकेंगे। अखाड़ों के स्नान के लिए जाने के दौरान लगभग आधे शहर का यातायात डायवर्ट रहेगा। जिला और मेला पुलिस प्रशासन ने मंगलवार को अखाड़ों के स्नान का रूट और समय निर्धारित कर यातायात प्लान जारी कर दिया।

महाशविरात्रि स्नान पर्व पर सबसे पहले जूना अखाड़ा आवाहन, अग्नि और किन्नर अखाड़ा सहित स्नान के लिए जुलूस के रूप में हरकी पैड़ी के लिए रवाना होगा। श्री जूना अखाड़ा सुबह 10 बजे अपनी छावनी मायादेवी मंदिर से शुरू होकर अपर रोड पोस्ट आफिस तिराहा से अपर रोड होते हुए 11 बजे हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पहुंचेगा। साढ़े 11 बजे बजे इसी मार्ग से वापसी होकर साढ़े 12 बजे छावनी पहुंचेंगे। दोनों अखाड़ों के छावनी पहुंचने तक श्री निरंजनी अखाड़ा और श्री आनंद अखाड़ा अपनी छावनी श्री निरंजनी अखाड़े से निकलकर वाल्मीकि चौक पर रुका रहेगा।

दोनों अखाड़े अपर रोड होते हुए करीब एक बजे हरकी पैड़ी पहुंचेंगे। स्नान के बाद अखाड़ा वापसी करते हुए करीब ढाई बजे छावनी पहुंच जाएगा। इस बीच दोपहर करीब डेढ़ बजे श्री महानिर्वाणी अखाड़ा व श्री अटल अखाड़े श्री महानिर्वाणी अखाड़े की छावनी से बंगाली मोड, शंकराचार्य चौक से डाम कोठी पुल पर पहुंचेगा। जब तक श्री निरंजनी और आनंद अखाड़े तुलसी चौक से मुड़कर अपनी छावनी नहीं पहुंच जाते, तब तक दोनों अखाड़े यहीं रुकेंगे, उनके छावनी में पहुंचने के बाद शिवमूर्ति चौक, ललतारौ पुल होते हुए करीब चार बजे हरकी पैड़ी पहुंचेंगे और साढ़े चार बजे वापस रवाना होकर लगभग साढ़े पांच बजे छावनी पहुंचेगे। कुंभ मेला आइजी संजय गुंज्याल ने बताया कि सुबह आठ बजे से हरकी पैड़ी के ब्रह्मकुंड और मालवीय घाट आम श्रद्धालुओं से खाली करा लिए जाएंगे। शाम छह बजे के बाद जब अखाड़े स्नान कर चुके होंगे, तब आम श्रद्धालु यहां स्नान कर पाएंगे।

अखाड़ों के स्नान के लिए हरकी पैड़ी आने जाने के दौरान रेलवे स्टेशन, श्रवणनाथ नगर के यात्रियों को शिवमूर्ति नहीं जाने दिया जाएगा, बल्कि उन्हें देवपुरा की तरफ घुमा दिया जाएगा, जो ऋषिकुल रोडवेज के पास से नया पुल होते हुये शंकराचार्य चौराहा चौक से अस्थायी पुल से केशवानन्द आश्रम होते हुए बेलवाला-रोड़ी क्षेत्र में प्रवेश करेगें। स्नान के बाद यह यात्री रोड़ी क्षेत्र के यात्रियों के साथ वापस आएंगे। महानिर्वाणी अखाड़ा के स्नान के लिए ऋषिकुल क्षेत्र की ओर से आने वाले यात्रियों को रानीपुर मोड़ की तरफ मोड दिया जायेगा, जो प्रेमनगर आश्रम पुल पार कर अनुगमन मार्ग से शंकरार्चाय चौक, बेलवाला-रोड़ी क्षेत्र होते हुए हरकी पैड़ी जाएंगे।

भेल और ज्वालापुर की ओर से आने वाले यात्रियों को भी प्रेमनगर आश्रम पुल की तरफ मोड दिया जाएगा। कनखल क्षेत्र से आने वाले यात्री संन्यास रोड़ होकर आयरिश पुल के नीचे से केशवानन्द आश्रम होते हुए रोड़ी क्षेत्र में प्रवेश करेंगे। जिस समय निरंजनी अखाड़ा का जुलूस चलेगा और वापस जाएगा, उस समय शंकराचार्य चौराहा से तुलसी चौक-शिवमूर्ति चौक तक किसी भी वाहन या पैदल यात्रियों को आने-जाने नहीं दिया जाएगा।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *