कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने पुष्कर सिंह धामी कैबिनेट में पारित संकल्पों पर तंज कसा

 पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने पुष्कर सिंह धामी कैबिनेट में पारित संकल्पों पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि जिस सरकार की वापसी की संभावना न के बराबर हो, उसे संकल्प के स्थान पर विधानसभा सत्र बुलाकर कानून बनाने की पहल करनी चाहिए।एक बयान में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि संकल्प के स्थान पर कानून बनने पर आने वाली सरकार के लिए उसका पालन करना बाध्यकारी हो जाता। उन्होंने 22 हजार ख़ाली पदों को भरने की चुनौती देते हुए कहा कि सरकार अपने छह-सात महीने के कार्यकाल में 2200 पद भी भर ले तो वह धन्यवाद ज्ञापित करेंगे। अधीनस्थ चयन सेवा आयोग के पास अभी तक मात्र दो हजार पदों के प्रस्ताव पहुंचे हैं। ऐसे में 22 हजार पद करने का सरकार का दाव बेमायने है। उत्तराखंड प्राविधिक शिक्षा परिषद के पास इतनी परिक्षाएं कराने की क्षमता नहीं है। उन्होंने कहा कि समय व्यतीत कर रही सरकार मात्र चुनाव नजदीक देखकर जनता को गुमराह कर रही है।

प्रदेश में कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष और अध्यक्ष को लेकर निर्णय 11 दिन गुजरने के बाद भी नहीं हो सका है। नेता प्रतिपक्ष का पद बीती 12 जून को डा इंदिरा हृदयेश के निधन से खाली हुआ था। इस पद पर चयन के साथ ही नए प्रदेश अध्यक्ष पर भी पार्टी हाईकमान ने विचार शुरू कर दिया है। हालांकि इस मामले में तकरीबन 10 दिन तक दिल्ली में डेरा डालने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह अब बुधवार को देहरादून में होने वाले प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदर्शन में शामिल होंगे।कांग्रेस ने भाजपा की पुष्कर सिंह धामी सरकार के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, किसानों की बदहाली समेत पांच मुद्दों को लेकर कांग्रेस ने बुधवार को प्रदेशव्यापी प्रदर्शन की घोषणा की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने बताया कि 10 जुलाई को कांग्रेस मुख्यमंत्री आवास कूच करेगी।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *