हिमालय हमारे सरोकारों से गहनता से जुड़ा है और उसके संरक्षण की जिम्मेदारी हम सबकी है;  मुख्यमंत्री धामी

 मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हिमालय हमारे सरोकारों से गहनता से जुड़ा है और उसके संरक्षण की जिम्मेदारी हम सबकी है। उन्होंने कहा कि हिमालय के संरक्षण के लिए यहां की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, नदियों व वनों का संरक्षण जरूरी है। इस कड़ी में जल संरक्षण-संवर्द्धन और वृहद पैमाने पर पौधारोपण सरकार की प्राथमिकता है।हिमालय दिवस की पूर्व संध्या पर अपने संदेश में मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि हिमालय हमारा भविष्य और विरासत, दोनों है। हिमालय के सुरक्षित रहने पर ही इससे निकलने वाली सदानीरा नदियां सुरक्षित रह पाएंगी। उन्होंने कहा कि हिमालय की इन नदियों का जल और जलवायु पूरे देश को एक सूत्र में पिरोते हैं। गंगा और यमुना के प्रति करोड़ों व्यक्तियों की आस्था से यह स्पष्ट दिखाई देता है।

उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण उत्तराखंडवासियों के स्वभाव में है। हरेला जैसे पर्व हमारे पूर्वजों की दूरगामी सोच को प्रदर्शित करते हैं। वनों को बचाने के लिए चिपको आंदोलन भी प्रकृति की प्रेरणा से संचालित हुआ था। उन्होंने कहा कि पर्यावरण की वर्तमान एवं भविष्य की समस्याओं से जुड़े विषयों पर समेकित चिंतन की जरूरत है।मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक बुधवार 15 सितंबर को होगी। इस बैठक में पुनर्वास नीति, खेल नीति, उपनल कर्मियों की वेतन विसंगति के अलावा शिक्षा व चिकित्सा संबंधी मामलों पर चर्चा होने की संभावना है।

शासन ने मुख्यमंत्री के पद पर पीयूष अग्रवाल की तैनाती के आदेश को 24 घंटे के भीतर ही निरस्त कर दिया। शासन ने तकनीकी कारणों से इस आदेश को वापस लेने की बात कही है। शासन ने मंगलवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में मुख्यमंत्री के सलाहकार के अलावा छह समन्वयकों की नियुक्ति आदेश जारी किए थे। पीयूष अग्रवाल के नियुक्ति आदेश इंटरनेट मीडिया में चर्चा का विषय बन गए थे। पीयूष अग्रवाल को विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल का बेटा बताया गया। हालांकि, विधानसभा अध्यक्ष ने नियुक्ति की जानकारी होने से इन्कार करते हुए कहा था कि पीयूष अग्रवाल नाम के कई व्यक्ति हो सकते हैं। वहीं, बुधवार को शासन ने सलाहकार की नियुक्ति के आदेश निरस्त कर दिए।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *