आसाराम मामले में आईपीएस अधिकारी ने लिखी पुस्तक ‘गनिंग फ़ॉर द गॉड मैन’, कई रहस्यों से उठेगा पर्दा

आईपीएस अधिकारी अजयपाल लांबा ने ‘गनिंग फॉर द गॉड मैन’ नाम से किताब लिखी है। जो नाबालिग से रेप के मामले में जोधपुर जेल में बंद आसाराम के केस पर आधा​रित है।

इस किताब में अजय पाल लांबा ने बताया कि ‘गनिंग फॉर द गॉड मैन’ जो 5 सितंबर को प्रकाशित होने वाली है। इस किताब में आसाराम बापू पर मुक़दमा दर्ज होने से लेकर गिरफ्तारी और फिर ट्रायल से लेकर सजा तक हर पहलू को हमने इस किताब में उल्लेख किया है। आसाराम को हिरासत में लेने के दौरान की भागमभाग, मीडिया को चकमा देने के लिए पुलिस द्वारा रची गई कहानियां और आसाराम का पुलिस को दिया गया वो बयान भी शामिल है जिसमें वो कहता है कि “मैंने गलती कर दी” ये सब किताब में है।

5 सितंबर को प्रकाशित होने वाली इस किताब में उन्होंने लिखा आसाराम पूछताछ के दौरान फूट-फूट कर रो रहा था। उसने पुलिस अधिकारियो से लेकर कांस्टेबल तक के पैर पकड़े और कभी धमकी देने लगता तो कभी अपना सिर दीवार पर मारने लगता और कभी गाना गाने लगता।

किताब में उस समय का उल्लेख है जब पुलिस का दल आसाराम को हिरासत में लेने पहुंची थी। आसाराम ने पुलिस पर अपना रौब झाड़ने की कोशिश करते हुए कहा कि तुम ऐसा नहीं सकते…तुम्हे अभी ऊपर से फोन पर आदेश आएगा कि तुम मुझको गिरफ्तार नहीं कर सकते। इसके उत्तर में अधिकारी ने अपनी जेब से मोबाइल फोन निकाला और फोन को ही स्विच ऑफ कर दिया।

जब आशाराम पर मुक़दमा दर्ज हुआ तो पूरे देश में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए थे। लाखों तादात में इनके समर्थक आने शुरू हो गये थे। ऐसे में सिर्फ बल प्रयोग करके आप उनको रोक नहीं सकते थे। इस पुस्तक में लिखा है किस प्रकार आरोपी को पकड़ने की लिये हमने योजना बनाई और उसे गिरफ्तार करने के कई तरीके अपनाये।

अजयपाल लांबा ने बताया कि किताब को हिंदी में भी पब्लिश किया जा सकता है। किताब के अंदर उन्होंने वो तमाम बातें लिखी। जब उन्होंने आसाराम को गिरफ्तार किया है और उन्हें किन-किन मुश्किलों का सामना उन्हें करना पड़ा।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *