नए मुख्यमंत्री की कैबिनेट से कुमाऊं की लंबे समय बाद सत्ता की ताकत बढ़ी; जाने पूरी खबर

नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की कैबिनेट से कुमाऊं की लंबे समय बाद सत्ता की ताकत बढ़ गई है। मंत्रिमंडल में सियासी के साथ ही जातीय समीकरण भी साधा गया है। साथ ही विधायकों के असंतोष को भी थामने की कोशिश की गई है। अब इन नेताओं पर 2022 के चुनाव में पार्टी को फिर से सत्ता में वापसी की जिम्मेदारी होगी।तीरथ सरकार में कुमाऊं से बंशीधर भगत, बिशन सिंह चुफाल, यशपाल आर्य, अरविंद पांडे जैसे वरिष्ठ विधायक हैं तो सोमेश्वर की विधायक रेखा आर्य को भी मौका मिला है। यशपाल राज्य के बड़े अनुसूचित जाति के चेहरे हैं तो रेखा आर्य अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखने के साथ ही महिला वर्ग का प्रतिनिधित्व करती हैं। अल्मोड़ा के विधायक रघुनाथ सिंह चौहान डिप्टी स्पीकर हैं।

चुफाल को तीरथ मंत्रीमंडल में शामिल कर भाजपा ने साफ कर दिया है कि सीमांत पिथौरागढ़ जिले की सामरिक के साथ ही सियासी महत्ता कम नहीं है। मसूरी के विधायक गणेश जोशी को मंत्रिमंडल में स्थान देकर पूर्व सैनिक वोट बैंक साधा गया है। जोशी मूल रूप से पिथौरागढ़ के निवासी हैं।नए मुख्यमंत्री के मंत्रिमंडल विस्तार के बाद नए चेहरों के मंत्री बनने को लेकर सियासी अटकलों पर विराम लग गया है। कुमाऊं में खटीमा के विधायक पुष्कर सिंह धामी की डिप्टी सीएम बनने की अटकलें कई दिन से थी। इसके अलावा बागेश्वर के बलवंत भौर्याल के मंत्रिमंडल में शामिल होने की बात कही जा रही थी। माना जा रहा है कि नए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की ओर से कार्यकारिणी में विधायकों को भी दायित्व दिया जा सकता है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *