नेपाल में चीनी राजदूत के खिलाफ भड़का नागरिको का असंतोष लोगो ने कहा – ‘चीन वापस जाओ’

नेपाल में भारत विरोधी अभियान के तहत सरकार चला रहे प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली पर इस्तीफे का दबाव बढ़ा तो चीन के पेट में दर्द उठने लगा है। वही नेपाल के घरेलू मामलों में इस तरह से दखल को लेकर मंगलवार को नेपाल विद्यार्थी संघ के सदस्यों ने काठमांडू में चाइनीज एंबेसी के बाहर प्रदर्शन किया। उनके बैनरों में ‘चीन वापस जाओ‘ जैसे नारे लिखे हुए थे। नेपाल की अखबारों और न्यूज़ चैनलों में भी चीनी राजदूत की नेपाली राजनीति में बढ़ते दखल को लेकर घोर आलोचना हो रही है।

नेपाल और भारत के सम्बन्धो में सीमा विवाद के कारण रिश्‍तों में खटास आ गई। और यह अब जगजाहिर है कि कैसे चीन के भारत विरोधी षड्यंत्र की वजह से नेपाली प्रधानमंत्री के पी ओली चीन के पाले में जा रहे है। सूत्रों के अनुसार नेपाल में चीनी राजदूत “होऊ यांगी” नेपाल को पड़ोसी भारत के खिलाफ भड़काने में लगी हुई हैं।

शायद प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को इस बात से अनजान है। या इस बात को जानबूझकर नहीं समझना चाहते कि जिस तरह उन्होंने कुटिल और विस्तारवादी चीन के जाल में फंस कर भारत और नेपाल के रोटी-बेटी के रिश्तों को खतरे में डाला है। उससे नेपाल के नागरिको में भारी रोष फैल रहा है और जनता में उनके प्रति नाराजगी बढ़ती जा रही है। और समय रहते अगर प्रधानमंत्री ओली नहीं चेते तो उनको इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *