बिहार के पूर्वी चम्पारण में पुलिस को अपहृत मासूम का नरकंकाल मिला

बिहार के बहूआराभान गांव में 22 जून को सात वर्षीय मासूम चन्द्रभान कुमार को अगवा कर लिया गया था। अपहरण के बाद फिरौती के लिए दस लाख रुपये की मांग मोबाइल पर फोन कर अपराधियों ने की थी। सात वर्षीय मासूम चन्द्रभान कुमार के दादा का नन्दकिशोर भगत से एक कट्ठा 18 धूर जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। अपहरण के बाद परिजनों ने मधुबन थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

इस मामले में पुलिस ने नन्द किशोर भगत की पत्नी चम्पा देवी और सावित्री देवी को गिरफ्तार कर जेल भेजा था जबकि नन्दकिशोर भगत का पुत्र नीतीश कुमार फरार है। अपहरण के बाद 14 और 15 जुलाई को अपराधियों ने फोन कर दस लाख रुपये फिरौती की मांग की थी। फिरौती नहीं देने पर मासूम चन्द्रकांत कुमार की हत्या कर दी गई। इस घटना के एक महीने बाद मासूम का कंकाल मिला जिसके बाद गांव में सन्नाटा फैल गया। मासूम का कंकाल घर से करीब दो सौ मीटर की दूरी पर एक बगीचे से मिला जिसकी पहचान कपड़े और गले में पड़े लॉकेट से किया गया। कंकाल के सिर और शरीर की कई हिस्सों की हड्डियां बिखरी मिली हैं। नरकंकाल मिलने की सूचना पर पकड़ीदयाल के डीएसपी मौके पर पहुंचे और मामले की जांच की। पुलिस ने कंकाल को बरामद करने के बाद डीएनए जांच कराने की बात कहती है।
मृत अपहृत मासूम के दादा लक्ष्मण भगत बताते हैं कि उनके पोते का अपहरण उनके सगे भाई के पुत्र ने जमीन विवाद में कर लिया था।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *