उत्तराखंड में बारिश आफत बनकर बरस रही’; दो दिनों से जन-जीवन अस्त-व्यस्त

उत्तराखंड में बारिश आफत बनकर बरस रही है। पिछले दो दिनों से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। मसूरी में पिछले एक घंटे से मूसलाधार बारिश हो रही है। नदी-नाले उफान पर हैं। बदरीनाथ और केदारनाथ हाईवे के साथ ही पिथौरागढ़ और चमोली में चीन सीमा को जोड़ने वाले मार्ग मलबा आने से बंद हैं। इसके अलावा प्रदेश में भूस्खलन के कारण 200 से ज्यादा संपर्क मार्गों पर आवागमन बाधित है और 800 से अधिक गांव जिला मुख्यालयों से कट गए हैं। गढ़वाल में गंगा, मंदाकिनी और अलकनंदा, वहीं कुमाऊं में गोमती, सरयू, गोरी और काली नदियां खतरे के निशान को पार कर चुकी हैं। हरिद्वार और ऋषिकेश में कई जगह गंगा घाट जलमग्न हो गए हैं। नदियों के रौद्र रूप को देखते हुए कई शहरों में तटीय इलाकों को खाली करा दिया गया है। ऋषिकेश में पुलिस की टीम तटीय क्षेत्रों में गश्त कर रही है।

कोटद्वार सहित पर्वतीय क्षेत्रों में रुक रुक कर बारिश हो रही है। एनएच पर यातायात सुचारू है। हालांकि, हल्दूखाल-नैनीडाडा – धूमाकोट, द्वारी-पेनो, कूल्हाड़-किनसुर सहित दस से अधिक मार्ग बंद हैं। मार्ग बंद होने के कारण 50 से अधिक गांव का सड़क संपर्क कट गया है।मानसून के रफ्तार पकड़ते ही प्रदेश मुसीबत का दौर शुरू हो गया है। शुक्रवार दोपहर बाद शुरू हुआ बारिश का सिलसिला शनिवार को भी जारी रहा। बारिश के चलते चमोली और रुद्रप्रयाग जिलों में भूस्खलन से बदरीनाथ और केदारनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवाजाही बंद है। हालांकि उत्तरकाशी जिले में गंगोत्री और यमुनोत्री मार्ग पर यातायात सुचारु है। भूस्खलन के कारण पेयजल योजना क्षतिग्रस्त होने से चमोली और रुद्रप्रयाग जिले के गांवों में पेयजल आपूर्ति भी प्रभावित हुई है।कुमाऊं में भी स्थिति कुछ ऐसी ही है। पिथौरागढ़ का अन्य जिलों से सड़क संपर्क पांच दिन से कटा हुआ है। वहीं अल्मोड़ा, बागेश्वर व पिथौरागढ़ में दो आवासीय भवन व एक दुकान ध्वस्त हो गई। पिथौरागढ़ जिले में चीन सीमा से लगे अस्सी से अधिक गांवों का संपर्क भी भंग हो चुका है। कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग 11वें दिन भी बंद रहा। चम्पावत में घाट से टनकपुर के बीच 12 स्थानों पर मलबा आने से सड़क बंद हो गई है। कई निजी और सरकारी वाहनों समेत पिथौरागढ़ की ओर जा रहे सेना के एक दर्जन से अधिक वाहन भी फंस गए हैं।

रुद्रप्रयाग: दो दिन से लगातार बारिश के बीच भूस्खलन से केदारनाथ पैदल मार्ग भी क्षतिग्रस्त हो गया है। फिलहाल इस मार्ग पर प्रशासन ने आवाजाही रोक दी है। प्रशासन के अनुसार मौसम साफ होने पर ही मार्ग की मरम्मत शुरू हो पाएगी।पर्वतीय क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से मैदानी क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। ऋषिकेश व हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान के करीब है। ऋषिकेश में शुक्रवार आधी रात को गंगा चेतावनी निशान को पार कर गई थी। पुलिस और प्रशासन की टीम ने रात को आसपास की आबादी को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया था। जलस्तर में वृद्धि से त्रिवेणी घाट का प्लेटफार्म पानी में डूब गया है, ज्यादातर घाट जलमग्न हो चुके हैं। केंद्रीय जल आयोग की टीम ऋषिकेश और हरिद्वार में लगातार जलस्तर पर नजर बनाए हुए है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *