खटीमा गोलीकांड की बरसी पर शहीद राज्य आंदोलनकारियों को शत् शत् नमन

सुशील खत्री
पिथौरागढ़, 1 सिंतबर। पृथक उत्तराखंड राज्य आंदोलन के दौरान एक सितंबर 1994 को खटीमा में हुए गोलीकांड की आज बरसी है। आज के ही दिन उत्तराखण्ड राज्य के लिए शांतिपूर्ण सत्याग्रह कर रहे हमारे लोगों पर तत्कालीन सरकार की क्रूर पुलिस ने गोलियां चलाई थीं, जिसमें उत्तराखंड के ये सात सपूत शहीद हो गए थे।

अमर शहीद स्व. भगवान सिंह सिरौला, ग्राम श्रीपुर बिछुवा, खटीमा
अमर शहीद स्व. प्रताप सिंह, खटीमा
अमर शहीद स्व. सलीम अहमद, खटीमा
अमर शहीद स्व. गोपीचन्द, ग्राम-रतनपुर फुलैया, खटीमा।
अमर शहीद स्व. धर्मानन्द भट्ट, ग्राम-अमरकलां, खटीमा
अमर शहीद स्व. परमजीत सिंह, राजीवनगर, खटीमा
अमर शहीद स्व. रामपाल, निवासी-बरेलीआज राज्य बने दो दशक हो गये हैं। शहीदों के निस्वार्थ बलिदान से बने इस राज्य के हालात देखकर कुढ़न होती है कि क्या इसी हाल पर लाकर छोड़ने के लिए उक्त लोगों ने अपना बलिदान दिया था ? वैसे आज बड़ी बड़ी बातें होंगी। शहीद स्मारक पर जाकर लोग टेसुए बहाकर भाषण देंगे, जो एक रस्म अदायगी होती है। आन्दोलनकारियों के सपनों का राज्य बनाने की बातें भी होंगी, फिर कल से सब सो जायेंगे। ऐसे ही 40 लोगों के खून से सनी इस राज्य की नींव पर सब होगा, बस एक चीज नहीं होगी, इनके रक्त की कीमत अदा करने की ईमानदार कोशिश।

इस अवसर पर हम तमाम शहीदों और आंदोलनकारियों का कृतज्ञतापूर्वक स्मरण एवं नमन करते हुए अपनी श्रद्धांंजलि अर्पित करते हैं। जय उत्तराखण्ड !

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *