NEET परीक्षा टालने से उच्चतम न्यायालय ने किया इनकार ,13 सितंबर को होगी

न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि प्राधिकारी चिकित्सा पाठ्यक्रमों में दाखिलों के लिए कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच नीट परीक्षा कराने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएंगे। पीठ ने कहा माफ कीजिए हम सुनवाई नहीं करना चाहते।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने JEE और NEET दोनों के लिए स्थगित करने वाली याचिका को खारिज कर दिया था। जिसमें कहा गया था कि छात्रों के कैरियर को लंबे समय तक खतरे में नहीं डाला जा सकता है। वहीं जेईई (JEE Exam) शेड्यूल के अनुसार आयोजित किया गया है। NEET की परीक्षा अभी तक आयोजित नहीं की गई है।

जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्डी और एमआर शाह आज याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे थे। परीक्षा आयोजित करने वाली संस्था नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) का दावा है कि इसने सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों के बीच परीक्षा आयोजित करने के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या में वृद्धि की है।

इससे पहले सायंतन बिस्वास समेत 11 छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने 1 से 6 सितंबर के बीच जेईई (JEE) और 13 सितंबर को नीट (NEET) की परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की है।

इसके लिए उन्होंने कोरोना का हवाला देते हुए लिखा था। देश में जिस रफ्तार से इस समय कोरोना वायरस फैल रहा है। उसके मद्देनजर अभी परीक्षा का आयोजन छात्रों और उनके परिवार के स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकता है। इसलिए स्थिति सामान्य होने तक परीक्षा स्थगित कर दी जाए।

परीक्षा संचालित करवा रही एनटीए द्वारा जारी निर्देश में सभी छात्रों को सलाह दी गई है कि वो एडमिट कार्ड पर दिए गए निर्देशों को एक बार ध्यान से जरूर पढ़ लें ताकि उन्हें पता रहे कि क्या करना है और क्या नहीं।

परीक्षा केंद्र में ज्योमेट्री या पेंसिल बॉक्स, हैंडबैग, पर्स, किसी तरह का पेपर, स्टेशनरी, प्रिंटेड या हाथ से लिखा हुआ मैटीरियल, लूज़ या पैक्ड खाने की चीजें, मोबाइल फोन, माइक्रोफोन, पेजर, कैलकुलेटर, डॉक्यूपेन, स्लाइड रूल्स, लॉग टेबल्स, कैमरा, टेप रिकॉर्डर, इलेक्ट्रॉनिक वॉच, कैलकुलेटर, मेटैलिक सामान अथवा इलेक्ट्रॉनिक गैजेट की अनुमति नहीं होगी।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *