तपोवन सुरंग में रेस्क्यू ऑपरेशन सातवे दिन भी जारी

तपोवन सुरंग में शनिवार को सुबह 5:00 बजे से ड्रिल का कार्य शुरू हो गया था, लेकिन सुबह 9:00 बजे ड्रिल का मैकेनिकल पाइप फट गया, जिससे एक घंटे तक कार्य बाधित रहा। मशीन में दूसरा मैकेनिकल पाइप जोड़ने के बाद फिर टनल में ड्रिल कार्य शुरू हो गया है। रेस्क्यू इंजीनियरिंग की टीम की ओर से 13 मीटर तक भूमि के अंदर ड्रिल कर दिया गया है। जिस मुख्य टनल से ड्रिल किया जा रहा है, उसके नीचे 13 मीटर की दूरी पर एक दूसरी टनल है। उस टनल में मलवा और पानी की मौजूदगी पता की जा रही है। सुबह 11:00 बजे तक सुरंग के पास पहुंची बड़ी ड्रिल मशीन के पार्ट्स को जोड़ने का काम जारी है। संभवत दोपहर बाद से बड़ी ड्रिल मशीन से सुरंग के अंदर ड्रिल कार्य शुरू हो जाएगा। ड्रिल के बाद वहां कैमरा भेजा जाएगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि चमोली में आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य तेजी से चल रहे हैं। कहा कि एनटीपीसी की सुरंग में मलबा अधिक भरने की वजह से उसे हटाने में समय अधिक लग रहा है। राहत एवं बचाव कार्यों में और तेजी आ सके इसके लिए अलग-अलग फोर्स एवं अधिकारियों को जिम्मेदारियां दी गई है। केन्द्र सरकार का भी इस आपदा में बचाव एवं राहत कार्यों में राज्य को पूरा सहयोग मिल रहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से भी राहत कार्यों की निरंतर समीक्षा की जा रही है। ऋषि गंगा की जल प्रलय में जिन लोगों ने अपनों को खोया वे तो प्रभावित हुए ही, लेकिन आपदा ने तपोवन बाजार की रौनक भी छीन ली है। तपोवन और ऋषि गंगा परियोजना के सैकड़ों मजदूर और स्थानीय गांवों के लोगों की बाजार में दिनभर चहल-पहल बनी रहती थी। अब आपदा के बाद से यहां सन्नाटा पसरा हुआ है।

आपदा प्रभावित तपोवन और रैणी क्षेत्र में प्रभावितों और अपनों की खोज में आ रहे लोगों के लिए हेमकुंड साहिब ट्रस्ट के साथ ही विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं की ओर से भंडारे का आयोजन किया जा रहा है। हेमकुंड साहिब ट्रस्ट की ओर से रैणी गांव में कई दिनों से भंडारा लगाया हुआ है और गोविंदघाट गुरुद्वारे में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, पुलिस के साथ ही करीब 250 लोगों के लिए रात्रि विश्राम और खाने की व्यवस्था भी की गई है। गुरुद्वारे के वरिष्ठ प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने बताया कि तपोवन में भी भंडारा लगाया गया है।  जिला मजिस्ट्रेट चमोली का कहना है कि चमोली में अब तक कुल 38 शव बरामद किए गए हैं। जिनमें से 12 की पहचान हो चुकी है और 26 अज्ञात हैं।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *