5 अगस्त को अयोध्या में भगवान राम के जन्मस्थान पर मंदिर निर्माण की नींव रखी जाएगी

अयोध्या में रामलला के जन्मस्थान पर बुधवार को मंदिर निर्माण की नींव रखी जाएगी। इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या के साथ-साथ देश और विश्व के लिए एक ऐतिहासिक पल होगा जब प्रधानमंत्री अयोध्या में लगभग 500 वर्षो की अवधि के परिणाम के साथ प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखेंगे। उन्होंने कहा यह हमारे लिए ऐतिहासिक और भावनात्मक क्षण है और यह एक नए भारत की आधारशिला भी रखने का क्षण है। जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री योगी सोमवार को अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले राममंदिर भूमि पूजन की तैयारियों की समीक्षा लेने पहुंचे थे।

सूत्रों के अनुसार भूमिपूजन कार्यक्रम के दौरान मंच पर सिर्फ पांच गढ़मान्य व्यक्ति ही होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास मंच पर रहेंगे। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया की वरिष्ठ बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी आयु ज्यादा होने की वजह से नहीं आ पाएंगे जबकि बीजेपी नेता उमा भारती ने बताया कि वो कोरोना की वजह से सरयू किनारे रहकर ही कार्यक्रम की गवाह बनेंगी।

योगगुरु रामदेव भी अयोध्या के लिए रवाना हो गए हैं. रामदेव ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या के लिये हम प्रस्थान कर रहे हैं और हमें सौभाग्य मिला है की हमारी आंखों के सामने, हमें दिव्य भव्य राममंदिर के शिलान्यास में सम्मिलित होने का यह अवसर मिला है।

राम मंदिर के भूमिपूजन में अब सिर्फ 24 घंटों का वक्त बचा है। भूमि पूजन कार्यक्रम के दौरान कल बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी राम मंदिर की नींव रखेंगे। इसी बीच अयोध्या में एसपीजी ने सुरक्षा संभाल ली है। अयोध्या की सीमाये सील कर दी गई है। 5 अगस्त तक बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी गई है। स्थानीय निवासियों को पहचान पत्र रखना अनिवार्य है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *