चिपको आंदोलन की तर्ज पर जाखनी गांव की महिलाओं का सड़क निर्माण का विरोध ला रहा रंग

चिपको आंदोलन की तर्ज पर जाखनी गांव की महिलाओं का सड़क निर्माण का विरोध रंग ला रहा है। लोक निर्माण विभाग ने आंदोलन को देखते हुए फिलहाल निर्माण कार्य रोक दिया है। हालांकि आंदोलनकारी महिलाओं ने कहा कि जब तक लिखित आश्वासन नहीं मिलता उनका आंदोलन जारी रहेगा। कांडा तहसील स्थित जाखनी गांव की महिलाओं ने बुधवार को फिर चिपको की तर्ज पर आंदोलन किया। सोमवार को पेड़ों को बचाने के लिए महिलाएं उनसे लिपट गई थी। बुधवार को निर्माणस्थल पर भी प्रदर्शन कर महिलाओं ने एक स्वर में कहा कि पूर्वजों के समय से संरक्षित जंगल को वह सड़क के लिए नहीं कटने देंगे। उनका आंदोलन जंगल बचाने के लिए है। लोनिवि को सड़क बनानी है तो वह दूसरी जगह से सर्वे कराए।

सरपंच कमला मेहता का कहना है कि उनके गांव के लोग पशुपालन और कृषि से अपनी आजीविका चलते हैं। यदि जंगल की कट जाएगा तो उनके समक्ष संकट खड़ा हो जाएगा। महिलाओं ने मौके पर पहुंचे वन दारोगा पुष्कर कार्की को ज्ञापन भी सौंपा। कहा कि पेड़ न कटने के लिखित आश्वासन पर ही वे मानेंगी। प्रदर्शन में हेमा देवी, गीता मेहता, मनुली देवी, शांति देवी, रेखा देवी, हेमा देवी, बिमला देवी, कला देवी, तुलसी देवी सहित लगभग 100 महिलाएं मौजूद थीं।अवर अभियंता लोनिवि कपकोट ईश्वर जोशी ने बताया कि सड़क का निर्माण मजगांव तक हो गया है। फिलहाल विवाद को देखते अधिशासी अभियंता के निर्देश के बाद निर्माण कार्य बंद कर दिया है। विवाद खत्म होने के बाद ही निर्माण कार्य आगे बढ़ाया जाएगा।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *