आज का दिन सुमन दिवस के नाम


कवि: सोमवारी लाल सकलानी निशांत।

आज 25 जुलाई, अमर शहीद श्री देव सुमन जी की पुण्यतिथि के अवसर पर चंबा में नगर पालिका परिषद के द्वारा मूर्ति अनावरण कार्यक्रम में सम्मिलित हुआ । कार्यक्रम अच्छा था लेकिन सुमन जी के विचार और सिद्धांतों के अनुरूप नहीं था। कार्यक्रम में राजनीति ज्यादा परिलक्षित हो रही थी और जहां सुमन जी के सिद्धांत और बलिदान को स्मरण करने की बात थी, वह पार्श्व में रही। मंच पर गणमान्य व्यक्तियों के अलावा माननीय क्षेत्रीय विधायक डॉक्टर धन सिंह नेगी, पालिका अध्यक्ष श्रीमती सुमन रमोला तथा पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष श्री पीयूष उनियाल मौजूद थे।
श्री देव सुमन जे के बलिदान पर चर्चा अधूरी रही। केवल एक रस्म अदायगी थी _ मूर्ति का अनावरण। जनप्रतिनिधियों के द्वारा कराए गए कार्यों का अधिक उल्लेख था।
कार्यक्रम के उपरांत अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्रख्यात पर्यावरणविद भाई विजय जड़धारी जी के सुझाव पर श्री देव सुमन व्याख्यानमाला आयोजित की गई। व्याख्यानमाला में वरिष्ठ पत्रकार श्री रघु भाई जडधारी ,वरिष्ठ पत्रकार श्री शशि भूषण भट्ट ,भूतपूर्व सैनिक संगठन के संरक्षक श्री इंदर सिंह नेगी, वन विभाग से रिटायर्ड श्री प्रेम दत्त थपलियाल ,सभासद श्री शक्ति जोशी , हेंवलवानी डिजीटल न्यूज़ के संपादक श्री सुभाष सकलानी आदि मौजूद रहे। सुमन जी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर सम्यक चर्चा हुई। उनके सिद्धांतों तथा उनके बलिदान को याद किया गया। “सुमन सौरभ” उनकी काव्य कृति पर मंथन हुआ । स्वरचित कविताओं के द्वारा कार्यक्रम को रोचक बनाने का प्रयास किया गया। साथ ही “सुमन जी कितने प्रसांगिक वर्तमान दौर में ” इस पर भी चर्चा हुई।
पर्यावरणविद श्री विजय जड़धारी जी ने जंगली जानवरों से द्वारा होने वाली हानि के बारे में चर्चा की। बीज बचाओ आंदोलन तथा अनेक समसामयिक मुद्दों पर चर्चा की गई । आदरणीय रघु भाई जड़धारी के द्वारा “सुमन जी के सिद्धांत” पर संगोष्ठी में वार्ता की गई और उनके बताए मार्ग पर चलने का आह्वान किया गया। श्री इंदर सिंह नेगी जी ने सुमन जी को नमन करते हुए ,उनके आदर्शों पर चर्चा की। वरिष्ठ पत्रकार श्री शशि भूषण भट्ट ने “वर्तमान परिस्थितियों में सुमन जी के प्रेरणा” विषय पर बातचीत की तथा श्री सुभाष सकलानी ने हेवलवाड़ी डिजिटल मीडिया के द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, महान बलिदानियों, तथा समाज के प्रति उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को नमन करते हुए अपनी बात रखी। कुल मिलाकर तीन घंटे तक चली यह परिचर्चा एक निष्कर्ष पर आई और एक ऐसा सामाजिक मंच बनाने की बात सामने आई ,जो राजनीति से बिल्कुल हटकर हो और समसामयिक मुद्दों को, समय के अनुकूल जाने और विषय के अनुरूप बनाने की बात की गई। समाज को नई दिशा व प्रेरणा देने की गोष्ठी में बाते हुई।
इसके बाद डेढ़ घंटे का कार्यक्रम ग्यारह गांव हिंदाऊ फेसबुक पेज पर आयोजित हुआ। जिसमें मुझे एक सप्ताह पहले आमंत्रित किया गया था। कार्यक्रमों में विद्वान प्रधानाचार्य श्री हर्ष मणि बहुगुणा, प्रधानाचार्य श्री कलीराम चमोली, विद्वान शिक्षक श्री विजय रतूड़ी ,संचालिका श्रीमति विजय लक्ष्मी डंगवाल डबराल तथा होस्ट श्री विनोद अग्रवाल जी के साथ मुझे भी आमंत्रित किया गया था। अनेक कविताओं के साथ-साथ प्रजामंडल सुमन जी का जन्म, शिक्षा, समाज सुधार ,उनके बलिदान और उसके बाद की प्रतिक्रिया पर विचार विमर्श किया गया । दर्शकों ने काफी सराहना भी की। ग्यारह गांव हिंदाऊ फेसबुक पेज पर इस लाइव परिचर्चा को आप देख सकते हैं । एक बार पुनः श्री देव सुमन जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए नमन। जय भारत ।जय हिंद। जय उत्तराखंड।
@कवि सोमवारी लाल सकलानी निशांत।
सचिव_ उत्तराखंड शोध संस्थान( रजि.)चंबा (टि. ग.) यूनिट

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *