कोरोना वायरस से उपजी महामारी की दूसरी लहर उत्तराखंड के लघु, कुटीर की सेहत पर भारी असर

कोरोना वायरस से उपजी महामारी की दूसरी लहर उत्तराखंड के लघु, कुटीर और सूक्ष्म उद्योग (एमएसएमई सेक्टर) की सेहत पर भारी पड़ रही है। इस श्रेणी की औद्योगिक इकाइयों में उत्पादन 50 फीसद तक घट गया है। कुछ इकाइयां तो दोबारा बंदी की कगार पर पहुंच गई हैं। इसकी वजह है कच्चे माल और कामगारों की उपलब्धता के साथ तैयार उत्पाद की मांग में आई कमी। इन हालात में लघु उद्यमियों को केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से उद्योग में जान फूंकने के लिए मदद के कदम उठाए जाने की दरकार है।

कोरोना की रोकथाम के लिए एक साल पहले 22 मार्च 2020 को लगे लॉकडाउन से पूरे देश में लघु उद्योग का पहिया थम गया था। राज्य के तीन बड़े औद्योगिक क्षेत्रों सेलाकुई, हरिद्वार व काशीपुर में भी 62 हजार से अधिक लघु औद्योगिक इकाइयों में ताले लटक गए थे। लॉकडाउन लागू होने के 67 दिन बाद केंद्र सरकार ने औद्योगिक इकाइयों को जिला प्रशासन की अनुमति के बाद 30 फीसद श्रमिकों के साथ उत्पादन शुरू करने की इजाजत दी थी। इसके बाद अनलॉक में प्रतिबंध लगातार कम होते गए।

अब जाकर उत्पादन रफ्तार पकड़ने लगा था, मगर कोरोना की दूसरी लहर ने इन औद्योगिक इकाइयों को फिर अतीत की तरफ धकेल दिया है। उद्यमियों का कहना है कि इस वर्ष अप्रैल में कोरोना का संक्रमण दोबारा बढ़ने पर देशभर में कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लागू होने के साथ ही कारोबार का नीचे जाना शुरू हो गया था। अब बाजार बंद होने से तैयार माल बिक नहीं पा रहा है। उस पर कच्चे माल की बढ़ी कीमत ने कमर तोड़ दी है। कुछ श्रमिक संक्रमित हैं तो कुछ कोरोना का कहर बढ़ने के बाद मूल निवास को लौट गए हैं। इस सबके चलते कुछ औद्योगिक इकाइयां तो बंदी की कगार पर पहुंच गई हैं। गिफ्ट आइटम जैसे कम मांग वाले उत्पाद बनाने वाली इकाइयों में दिन में एक-दो घंटे ही उत्पादन किया जा रहा है।

उत्तराखंड फूड प्रोसेसिंग उद्योग एसोसिएशन के संरक्षक अनिल मारवाह बताते हैं कि जनवरी-फरवरी में कोरोना संक्रमण का प्रसार कम होने से उद्योग पटरी पर आने लगे थे, मगर दूसरी लहर ने बाजार में मांग कम कर दी है। कच्चे माल की कीमत बढ़ गई है। 30 से 40 फीसद श्रमिक भी काम पर नहीं आ रहे।बेकरी, डेयरी, बर्तन, चमड़ा, मसाला व आचार, पेपर बैग व लिफाफा, झाड़, पशु आहार, दवा, पेपर मिल, खिलौने, फर्नीचर, कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, सौंदर्य प्रसाधन, नमकीन आदि।विजय सिंह तोमर (प्रांत महामंत्री, लघु उद्योग भारती उत्तराखंड) का कहना है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से एमएसएमई सेक्टर बहुत ज्यादा प्रभावित हुआ है। बाजार बंद होने से मांग में बहुत ज्यादा कमी आई है। कच्चे माल की कीमत भी बढ़ गई है। कामगार, उद्यमी और उनके स्वजन कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। कारोबार ठप होने से उद्यमी बैंक से लिए गए ऋण की किस्त तक नहीं चुका पा रहे हैं।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *